Monday, January 26, 2009

आपके महफिल ने...

आपके महफिल ने समजा प्यार के काबिल मुझे....

मेरे जिंदगी की वो महफिल, कितने बार सोचा था की तुम्हें ख़त लिखू मगर क्या लिखू? हम दोनों समुन्दर के किनारे हाथ पकड़कर जिंदगी को भूलकर आसमान के तारोंको तोड़ने की सोच रहे थे, क्या उसके बारे में लिखू? साथ समुन्दर पार करके भागने के लिए सोच रहे थे, क्या उसके बारे में लिखू? किसके बारे में लिखू? यही सोच सोचकर ख़त नही लिखा. आज निर्णय लिया हम, ख़त पूर्ण करके ही रहूँगा.
ओ मेरी जिंदगी, तुम्हें याद है वो लम्हा, जब हम पहेले बार मिले थे? तुमारी मुस्कराहट ने मुझे पागल बना दिया था, आज भी पागल बना रही है. ये जिंदगी एक अजीबा है ना? उस दिन से आजा तक हम ने अपने हर क्षण को साथ साथ गुजारे है, कभी आसू, कभी आहे, कभी शिखवे, कभी नाले, तेरा चेहरा मुझे नजर में आया है.
मुझे मालूम है की तुम मेरे बारे में क्या सोचती हो, तुम कुछ भी बोलो वो मेरे बले के लिए ही होता है, तुम हसती हो, हसाती हो, रुलाती भी हो. मुझे तुमारी साथ बीताने की हर फल अच्छा लगता है, सच्चा लगता है. तुम्हें भी ऐसा ही लगता है क्या? ऐसा ही होगा, हम साथ जिंदगी गुजारने की वादा जो लिए है, हर फल, हर आँसू, हर खुशी, हर गम में हम तुमरे है सनम.
लिखना तो बहुत है, मगर दिन भी तो बहुत है, एक एक करके लिखता हु. अभी मुझे जाना है, फ्हिर कभी लिखूंगा. तब तक तुम भी मुझे ख़त लिखो.तेरे प्यारा अनामिका

5 comments:

ಮನಸು said...

Nice one!!

Keep writing

All the best

चण्डीदत्त शुक्ल said...

खूबसूरत गद्य, अद्भुत वाक्यरचना...ब्लॉगिंग में सक्रियता यूं ही बनाए रखें। कभी हमारे चौराहे--www.chauraha1.blogspot.com पर भी आएं.

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

ई-गुरु राजीव said...

हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

शुभकामनाएं !


"टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

ई-गुरु राजीव said...

आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?